Feeds:
પોસ્ટો
ટિપ્પણીઓ

Archive for જૂન, 2012

लोग रूठ जाते हैं मुझसे
और मुझे मनाना नहीं आता,
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मैं चाहता हूँ क्या
मुझे जताना नहीं आता,
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आँसुओं को पीना पुरानी आदत है
मुझे आंसू बहाना नहीं आता,
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
लोग कहते हैं मेरा दिल है पत्थर का
इसलिए इसको पिघलाना नहीं आता,
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब क्या कहूँ मैं
क्या आता है, क्या नहीं आता,
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
बस मुझे मौसम की तरह
बदलना नहीं आता..

Read Full Post »